10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें और कैसे बेहतर करियर बनाएँ?

10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें और कैसे बेहतर करियर बनाएँ?

10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें और कैसे बेहतर करियर बनाएँ? :- 10th के बाद क्या करे? हर स्टूडेंट अपने करियर को लेकर हमेशा परेशान रहता है ऐसा सभी के साथ होता है मेरे साथ भी ऐसा बहुत बार होता है क्यूंकि मैं भी आपके तरह ही एक स्टूडेंट हूँ. मैं चाहता हूँ की आपको मेरी तरह इधर उधर जानकारी पाने के लिए न भटकना पड़े इसलिए मैं आज यह पोस्ट लिख रहा हूँ इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की 10th के बाद क्या करे, 10th के बाद हम क्या कर सकते है, 10th के बाद क्या करियर आप्शन है, 10th के बाद कोनसा कोर्स करे, 10th के बाद कोनसा स्ट्रीम ले इन सभी सवालो का जवाब आपको आज हमारे इस पोस्ट में मिलेगा इसलिए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़े और हमें आप कमेंट में अपने सवाल भी पूछ सकते हो. मैंने कुछ दिनों पहले एक पोस्ट लिखा था 12th के बाद क्या करे उस पोस्ट के बाद बहुत से लोगो ने हमसे अनुरोध किया की एक पोस्ट 10th के बाद क्या करे इस विषय पर भी लिखा जाये इसलिए आज हम 10th के बाद क्या करे इस पोस्ट में जानेंगे.|

10वीं के बाद क्या करें?, 10th ke baad konsa course kare, 10th ke baad job, हाई स्कूल के बाद क्या करे, 10 वीं के बाद सर्वोत्तम कोर्स, 10 वीं के बाद मेडिकल कोर्स, 10th ke baad kya kare in hindi, 10th ke baad kya karna chahiye, 10th ke baad kya job kare, 10th ke baad 12th kaise kare, दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें ?



10 वीं कक्षा के बाद क्या करे, यह प्रश्न महत्वपूर्ण क्यों है?

यह सच है कि एक ठोस निर्णय लेना बहुत मुश्किल काम है, अगर मुश्किलों को आसन करना है तो निर्णय तो लेना ही है. पर कैसे, उचित निर्णय लेने के लिए पर्याप्त ज्ञान का होना बेहतर जरुरी होता है.

मुश्किल तो यह उस स्थिती में और अधिक हो जाता है जब आपको अपने करियर के बारे में कुछ स्पष्ट ना हो कि 10 वी के बाद क्या करना है या फिर कुछ खास मार्गदर्शन न हो. क्योकि सुझाव लेना और देना दोनों जरुरी है.

इसलिए किसी भी निर्णय का चयन जल्दीबाजी में न करे. क्योकि, एक गलत निर्णय आपके आत्म विश्वास को तोड़ सकता है.

इसलिए सावधान रहे. क्योकि, ये निर्णय आपकी अंतिम निर्णय नही है आगे आपको और बड़े-बड़े निर्णय लेने है. इसलिए, सोच समझ कर किसी भी विषय के प्रति अपना स्पष्टीकरण करे.

10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें, कैसे बेहतर करियर बनाएँ? 10th ke baad konsa course kare, 10th ke baad job, हाई स्कूल के बाद क्या करे, 10 वीं के बाद सर्वोत्तम कोर्स, 10 वीं के बाद मेडिकल कोर्स, 10th ke baad kya kare in hindi, 10th ke baad kya karna chahiye, 10th ke baad kya job kare, 10th ke baad 12th kaise kare, दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें ?
10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें, कैसे बेहतर करियर बनाएँ? 10th ke baad konsa course kare, 10th ke baad job, हाई स्कूल के बाद क्या करे, 10 वीं के बाद सर्वोत्तम कोर्स, 10 वीं के बाद मेडिकल कोर्स, 10th ke baad kya kare in hindi, 10th ke baad kya karna chahiye, 10th ke baad kya job kare, 10th ke baad 12th kaise kare, दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें ?

हम सभी को बड़ा होकर अपना करियर बनाना होता है क्यूंकि जितना अच्छा हमारा करियर होगा उतनी अच्छी हमारी ज़िन्दगी होगी इसलिए जरुरी है की हम अपने करियर से जुड़े निर्णय सोच समझकर ले नहीं तो हमारा करियर शुरू होने से पहले ही बर्बाद हो सकता है. अगर आप देखे तो 10th के बाद हमारे पास बहुत से करियर आप्शन होते है बस हमें सही चुनाव करना होता है अगर आपने सही चुनाव किया तो आपकी लाइफ सेट है. अगर आप सही चुनाव करने में असफल होते हो तो आपका उस काम को करने में मन नहीं लगेगा और आप आखिर में हार मान जाओगे. आज मैं इसलिए इस पोस्ट में 10th के बाद के लिए सभी कोर्स बताऊंगा साथ में यह भी बताऊंगा की यह कोर्स किन लोगो करना चाहिए ताकि करियर का चुनाव सही ढंग से हो. इस पोस्ट को कृपया ध्यान से पढ़े तभी आप इसे अच्छे से समझ पाएंगे तो चलिए जानते है 10th के बाद क्या करे.

10th के बाद क्या करे:

10th के बाद आपको तीन स्ट्रीम का आप्शन मिलता है जिसमे से किसी एक स्ट्रीम का चुनाव आपको करना होता है यह उतना आसान नहीं होता जितना आप सोच रहे हो क्यूंकि बहुत से स्टूडेंट को यही पता नहीं होता कोनसा स्ट्रीम उनके लिए अच्छा है और कोनसा नहीं लेकिन इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं है यह बहुत आम समस्या है जो सभी के साथ होता है. मैं आपको तीनो स्ट्रीम्स की जानकारी दे देता हूँ आपका मन जिस भी स्ट्रीम को लेने के लिए कहें वही ले और किसी दवाब में न आये.

Science:

अगर आप इंजिनियर या डॉक्टर बनना चाहते हो तो आपको 10th के बाद साइंस लेना होगा. दुसरे स्ट्रीम के मुकाबले साइंस आपसे ज्यादा मेहनत मांगती है. साइंस से 12th करने के बाद आप किसी भी छेत्र में आसानी से जा सकते हो जबकि ऐसा दुसरे स्ट्रीम के साथ नहीं होता कुल मिलकर यह बहुत अच्छा स्ट्रीम माना जाता है. अगर आप साइंस लेकर डॉक्टर की पढाई करना चाहते हो तो बायोलॉजी जरुर ले. अगर आप साइंस लेकर इंजिनियर बनना चाहते हो तो मैथ आपके पास होनी चाहिए. आप चाहे तो बायोलॉजी और मैथ दोनों ले सकते हो. साइंस स्ट्रीम में आपके सब्जेक्ट फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, मैथ, इंग्लिश होते है बाकि एडिशनल सब्जेक्ट भी आप ले सकते हो कुल मिलकर छः सब्जेक्ट होते है.


अगर आप साइंस मैथ के साथ करते हो तो आप नॉन मेडिकल स्टूडेंट कहलाओगे क्यूंकि आपने बायोलॉजी नहीं पढ़ी इसलिए आप किसी मेडिकल छेत्र में नहीं जा सकते. वही अगर आप साइंस बायोलॉजी के साथ करते हो तो आप मेडिकल स्टूडेंट कहलाओगे मतलब आप मेडिकल छेत्र में जा सकते हो लेकिन किसी ऐसे छेत्र में नहीं जा सकते जहाँ मैथ का उपयोग होता हो जैसे इंजीनियरिंग. अगर आपने निर्णय नहीं लिया किस छेत्र में आपको जाना है तो आप मैथ और बायोलॉजी दोनों ले सकते हो.
Physics: इस सब्जेक्ट में आपको गति, उर्जा, घर्षण आदि जैसे टॉपिक्स को समझने के लिए मिलेगा. यह साइंस के बाकि दुसरे विषय से ज्यादा कठिन माना जाता है.
Chemistry: इसमें आपको रसायन के बारे में जानने को मिलेगा जैसे की पानी, केमिकल, तरल पदार्थ, ठोस पदार्थ, द्रव्य पदार्थ से जुड़ी जानकरी दी जाती है.
Biology: इस सब्जेक्ट में आपको जीव जंतु, मानव शरीर, पशु शरीर, पेड़ पौधे से जुड़े सभी जानकारी दी जाती है. अगर आप भी जीव विज्ञानं में रूचि रखते है यह सब्जेक्ट आपके लिए है.
Mathematics: इस सब्जेक्ट में आपको गणित सिखाया जाता है. यह गणित आप जो 10th तक पढ़ते आ रहे होते हो उससे काफी अलग है लेकिन इन्हें समझने के लिए आपको 10th तक के गणित की जानकारी होनी चाहिए.
Computer Science: अगर कोई कंप्यूटर में अपनी रूचि रखता है तो उसको यह सब्जेक्ट जरुर पसंद आएगा. इस सब्जेक्ट में आपको कंप्यूटर की जानकारी, प्रोग्रामिंग भाषा, सॉफ्टवेर, इन्टरनेट आदि के बारे में सिखाया जाता है.
English: यह सब्जेक्ट आपको हर स्ट्रीम में देखने को मिल जायेगा. इंग्लिश में आपको ग्रामर, टेंस, एक्टिव पैसिव, उपन्यास आदि पढ़ने होते है.

साइंस से इंटर / 12th करने का एक बहुत बड़ा फायदा ये होता है कि आप चाहे तो स्नातक (graduation) में अपना स्ट्रीम बदल सकते हैं. जैसे आपने इंटर साइंस स्ट्रीम से की है लेकिन आप चाहते है कि ग्रेजुएशन आप आर्ट्स या कॉमर्स से करें. तो ऐसा आप आसानी से कर सकते है. साइंस के अलावा किसी और स्ट्रीम में ये सुविधा उपलब्ध नहीं है.

इंटर में साइंस लेकर पढ़ने से कई सारे अच्छे करियर के दरवाजे खुलते हैं. जिनमें पैसा और इज्जत दोनों खूब मिलती हैं. ये कुछ प्रमुख करियर विकल्प है :
 डॉक्टर
 इंजीनियर
 आईटी
 शोध (research)
 एविएशन
 मर्चेंट नेवी
 फॉरेंसिक साइंस
 एथिकल हैकिंग
आप का सपना अगर डॉक्टर या इंजीनियर बनना है तो आप ज्यादा ये न सोचें के 10वीं के बाद क्या करें? बल्कि इंटर में साइंस लेलें.

GET BEST JOB GETBESTJOB.COM FOLLOW AND SHARE

साइंस स्ट्रीम मुख्यत: दो भागों में बटा हुआ है:

  1. मेडिकल (PCB)
  2. नॉन-मेडिकल (PCM)
    फिजिक्स और केमिस्ट्री दोनों में कॉमन होते हैं. नॉन-मेडिकल (PCM) में फिजिक्स और केमिस्ट्री के साथ गणित (mathematics) होता है. जबकि मेडिकल (PCB) में फिजिक्स और केमिस्ट्री के साथ जीव विज्ञान (biology) होता है. आप मेडिकल (PCB) में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के साथ-साथ मैथमेटिक्स (PCB-M) भी पढ़ सकते हैं.

मेडिकल (PCB) और नॉन-मेडिकल (PCM) दोनों के साथ अंग्रेजी (english) अनिवार्य भाषा के तौर पर होता है. इन सबके अलावा आपको एक ऐक्छिक विषय (optional subject) भी चुनना होता है. ऑप्शनल सब्जेक्ट में हिंदी, उर्दू , कंप्यूटर साइंस, आदि होते हैं. ये ऑप्शनल सब्जेक्ट अलग-अलग बोर्ड के अनुसार अलग-अलग भी हो सकती है.

10वीं के बाद साइंस चुनने के फायदे

  • साइंस स्ट्रीम इंजीनियरिंग, मेडिकल, IT जैसे कई बेहतरीन करियर विकल्प प्रदान करता है। इसके अलावा छात्र रिसर्च में भी विकल्प तलाश सकते हैं।
  • साइंस लेने का सबसे बड़ा फायदे यह है कि इससे छात्रों के पास बड़ी मात्रा में आगे के लिए विकल्प खुल जाते हैं। छात्र साइंस से कॉमर्स या आर्ट्स में कोर्सेज को चुन सकते हैं लेकिन कॉमर्स और आर्ट्स स्ट्रीम छात्र साइंस वाले कोर्सेज नहीं चुन सकते हैं।
  • साइंस का क्षेत्र काफी एडवांस है और इसमें आगे भी रिसर्च होती रहेगी, तो करियर की असीम संभावनाएं हैं।

Commerce:

इस स्ट्रीम को बहुत से स्टूडेंट लेना पसंद करते है. अगर आप एकाउंटिंग, फाइनेंस या बैंकिंग के छेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हो तो आपके पास कॉमर्स होना जरुरी है. कॉमर्स में आपको इकोनॉमिक्स, एकाउंटेंसी, बिज़नस स्टडीज, बिज़नस लॉ जैसे सब्जेक्ट मिलते है. अगर आप कॉमर्स से 12th पास करते हो तो B.Com, BBA, BMS, BBM, CFA, CA, ICWA, CFP जैसे कोर्स के साथ अपनी ग्रेजुएशन कर सकते हो.

  • Accountant: इस सब्जेक्ट में आपको एकाउंटिंग कैसे करते है यह सिखाया जाता है. दुसरे शब्दों में कहें तो आपको हिसाब किताब की जानकारी, बैंक व किसी कंपनी में लेखा जोखा कैसे करते है यह बताया जाता है.
  • Business Studies: इस सब्जेक्ट में आपको बिज़नेस कैसे किया जाता है इसकी जानकारी दी जाती है. इस सब्जेक्ट को पढ़ कर कोई यह जान सकता है की बिज़नेस सही ढंग से कैसे चलाया जाता है और आगे चल कर एक अच्छा बिजनेसमैन बन सकता है.
  • Economics: जिसमें धन सम्बंधित क्रियाओं का आध्ययन किया जाता है वह इकोनॉमिक्स कहलाता है. इस सब्जेक्ट में आपको वस्तुओं और सेवाओ का लेन देन, किसी उत्पाद की खपत आदि जैसे टॉपिक्स के बारे में समझाया जाता है.
  • Mathematics: इस सब्जेक्ट में गणित सिखाया जाता है. अगर आप कॉमर्स में अच्छा पर्दर्शन करना चाहते है तो गणित पर आपकी पकड़ भी अच्छी होनी चाहिए.
  • English: यह तो कोई नया सब्जेक्ट नहीं है आप भी जानते है इसमें ग्रामर, टेंस, एक्टिव पैसिव, उपन्यास आदि जैसे टॉपिक्स पढ़ाये जाते है.

साइंस के बाद सबसे ज्यादा मशहूर स्ट्रीम कॉमर्स ही है. आपका अगर व्यापार (business) वाला माइंडसेट है, आपको हिसाब-किताब (accounting) करने में मजा आता है, अर्थशास्त्र (economics) आदि पढ़ने में मन लगता है तो ये स्ट्रीम आपके लिए उपयुक्त है.

कॉमर्स से इंटर करने के बाद मुख्यतः ये निम्नलिखित करियर विकल्प होते है:

  • अकाउंटेंट
  • कंपनी सेक्रेटरी
  • एमबीए (MBA)
  • फाइनेंशियल प्लानर
  • मैनेजमेंट अकाउंटिंग
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA)
  • एक्चुअरीज (Actuaries)

इंटर में कॉमर्स लेकर पढ़ने वाले विद्यार्थी ग्रेजुएशन में अपना स्ट्रीम कॉमर्स से आर्ट्स में बदल सकते हैं. लेकिन वो साइंस स्ट्रीम नहीं ले सकते हैं.

आप से अगर कोई पूछे की CA बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें? तो आप उसे बताए के आप के लिए इंटर कॉमर्स से करना बेहतर होगा.

कॉमर्स से इंटर करने के लिए आपको ये सब विषय पढ़ने होते हैं:

  • अकाउंटेंसी
  • बिजनेस स्टडीज
  • इकोनॉमिक्स
  • इंग्लिश
  • इनफार्मेशन प्रैक्टिसेज/ मैथमेटिक्स

10वीं के बाद कॉमर्स चुनने के फायदे

  • 10वीं के बाद कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले उम्मीदवारों के पास कई ग्रेजुएशन विकल्प होते हैं और CACSMBAHR आदि जैसे कई करियर विकल्प होते हैं।
  • कॉमर्स का अध्ययन करने का दूसरा बड़ा लाभ निवेश (इन्वेस्टमेंट) ज्ञान है। एक उम्मीदवार को पता चल जाएगा कि उसे इसे मल्टीपल में कहां निवेश करना चाहिए। ज्यादातर लोग म्यूचुअल फंड, FD और शेयर बाजार का रुख करते हैं।
  • यदि किसी उम्मीदवार की संख्या और संख्यात्मक डेटा का विश्लेषण करने में गहरी रुचि है, तो कॉमर्स सबसे अच्छा विकल्प उपलब्ध है।
  • इसमें बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन से लेकर फाइनेंस जैसे क्षेत्र में करियर के असीम विकल्प हैं।

Arts:

अगर आपका दिलचस्प मीडिया, जर्नलिज्म, लिटरेचर, सोशियोलॉजी, सोशल सर्विस, ह्यूमन साइकोलॉजी, पॉलिटिक्स, इकोनॉमिक्स, हिस्ट्री जैसे सब्जेक्ट में है तो आप आर्ट्स स्ट्रीम से 12th पास कर सकते हो. बहुत से लोगो की यह धरना होती है की आर्ट्स वो लोग लेते है जिनका पढाई में मन नहीं लगता या फिर जिनके कम मार्क्स होते है जबकि ऐसा कहना उचित नहीं है. आर्ट्स लेकर भी लोग अपना करियर बना सकते है ऐसे लोग वकील, पॉलिटिशियन, प्रोफेसर, टीचर छेत्र में अपना करियर बना सकते है. आर्ट्स में आपके सब्जेक्ट जियोग्राफी, पोलिटिकल साइंस, साइकोलॉजी, सोशियोलॉजी, इंग्लिश, हिंदी, संस्कृत जैसे होते  है.

  • History: अगर आप इतिहास को समझना चाहते हो की पुराने समय में क्या होता था, पुराने समय के रीति रिवाज, पुराने समय के युद्ध आदि का वर्णन इस सब्जेक्ट में किया गया है.
  • Geography: इस सब्जेक्ट में आपको भूगोल के बारे में बताया जाता है. अगर आप भूमि से सम्बंधित जानकारी चाहते है जैसे की भूकंप, वातावरण, सुनामी, जंगल, वनस्पति आदि इस सब्जेक्ट में बताया गया है.
  • Psychology: अगर कोई इंसानी दिमाग को उसके गतिविधि के आधार पर समझना चाहता है तो उन्हें यह सब्जेक्ट जरुर पढ़ना चाहिए.
  • Political Science: अगर आप राजनीति कैसे काम करता है यह जानना चाहते है तो इस सब्जेक्ट को जरुर पढ़े. इसमें आपको राज्य, भारत व विश्व की राजनीती, राजनीतिक गठबंधन, सरकार की शक्तियां, मौलिक अधिकार आदि जैसे विषय पढ़ाया जाता है.
  • Hindi: लगभग ज्यादातर आर्ट्स के छात्र हिंदी भाषा अपने सब्जेक्ट में रखते जरुर है. इस सब्जेक्ट में आपको हिंदी व्याकरण और हिंदी की शुद्धि कैसे करे यह सिखाया जाता है.
  • English: अगर कोई इंग्लिश सिखने और समझने में इच्छुक है तो उन्हें यह सब्जेक्ट जरुर पसंद आएगा. इस सब्जेक्ट में आपको इंग्लिश ग्रामर के रूल्स और लेखक द्वारा लिखे उपन्यास, कहानी व कविता पढ़ना होता है.
  • Sanskrit: यह भाषा सबसे पुरानी मानी जाती है और ऐसा भी कहा जाता है की सभी भाषा का जन्म संस्कृत से ही हुआ है. अगर आप भी संस्कृत भाषा सीखना चाहते है तो यह सब्जेक्ट आपको पढ़ना होता है.
  • Philosophy: इस सब्जेक्ट में आपको लोगो के सोचने का तरीका, किसी के तनाव की वजह क्या हो सकता है, कोई व्यक्ति कैसे खुश रह सकता है आदि बताये जाते है.
  • Sociology: यह सब्जेक्ट आपको समाज की जानकारी देता है की समाज कैसे काम करता है, सामाजिक समस्या, सामाजिक गतिविधि आदि.

आर्ट्स को लेकर कुछ लोगों की ये धारणा है कि जो विद्यार्थी पढ़ने में कमजोर होते हैं, जिनके अंक (marks) परीक्षा में कम आते हैं, वही विद्यार्थी आर्ट्स लेकर पढ़ते हैं. पर ये धारणा गलत है. बहुत से विद्यार्थी जो पढ़ने में अच्छे होते हैं, परीक्षा में अच्छे अंक भी लाते हैं. वह भी इस स्ट्रीम को चुनने में रुचि रखते हैं.

जो विद्यार्थी सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं, उनके लिए आर्ट्स बहुत उपयोगी है. क्योंकि ज्यादातर जो सरकारी नौकरी पाने के लिए प्रतियोगिता परीक्षा (competitive exams) होते हैं, जैसे UPSC, SSC, BPSC, आदि. इनके पाठ्यक्रम (syllabus) में ज्यादातर आर्ट्स स्ट्रीम के ही टॉपिक होते हैं.

IAS बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें? तो इंटर में आर्ट्स स्ट्रीम ज्यादा मददगार होगी.

सरकारी नौकरी पाने के अलावा भी आर्ट्स स्ट्रीम में कई सारे करियर विकल्प (career options) है. जिनमें से कुछ प्रमुख हैं :

  • पत्रकार (journalist)
  • ग्राफिक डिजाइनर
  • वकील (lawer)
  • इवेंट मैनेजर
  • शिक्षक (teacher)
  • एनिमेटर

आर्ट्स स्ट्रीम से इंटर करने में एक दिक्कत ये आती है की आप अगर ग्रेजुएशन में अपना स्ट्रीम बदलना चाहते है तो नहीं बदल पाएंगे.

आर्ट्स स्ट्रीम के 11वीं और 12वीं में ये सब विषय होते हैं:

  • इतिहास (history)
  • पॉलिटिकल साइंस
  • सोशियोलॉजी
  • इकोनॉमिक्स
  • ज्योग्राफी
  • साइकोलॉजी
  • अंग्रेजी
  • क्षेत्रीय भाषा

10वीं के बाद आर्ट्स चुनने के फायदे

  • 10वीं के बाद आर्ट्स लेने के कई फायदे होते हैं, जैसे कॉमर्स और साइंस के मुकाबले आर्ट्स लेने वाले छात्रों पर दबाव कम रहता है।
  • आर्ट्स स्ट्रीम चुनने से छात्रों को ट्यूशन या कोई क्लासेज लेने की ज़रूरत भी नहीं पड़ती है।
  • सबसे बड़ा फायदा यह है कि आर्ट्स के छात्र सिविल सर्विसेज जैसे IAS, IPS आदि के परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। ऐसा इसलिए कि आर्ट्स में से विषय सिविल सर्विसेज में से पूछे जाते हैं।
  • कॉमर्स और साइंस के मुकाबले आर्ट्स में विषय या कोर्स करने पर फीस भी कम रहती है।



10 वीं के बाद करें इन 5 डिप्लोमा में से कोई एक, जॉब मिलने की गारंटी

अब जाॅब ओरिएंटेड कोर्सेस के प्रति ट्रेंड बढ़ता जा रहा है। कई पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे ऐसा कोर्स करें जिसे करने के बाद जॉब सर्च करने में आसानी हो। यहां हम बता रहे हैं ऐसे 5 डिप्लोमा कोर्सेस के बारे में जिन्हें दसवीं के बाद ही किया जा सकता है। यानी ये कोर्स करके जल्दी ही अपने पैरों पर खड़े हो सकते हैं। 

1. होटल मैनेजमेंट – इन दिनों होटल और हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री में काफी स्कोप है। ऐसे में यदि आपको हॉस्पिटेलिटी में करियर बनाना है तो आप दसवीं के बाद होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा कर सकते हैं। यह डिप्लोमा करने से इस फील्ड में जॉब मिलना आसान हो जाएगा। 

2. कम्प्यूटर हार्डवेयर एवं नेटवर्किंग – कम्प्यूटर के युग में यह एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकता है। इस फील्ड में आप कम्प्यूटर रिपेयर और नेटवर्किंग से संंबंधित जानकारी प्राप्त करते हैं जो एक अच्छी जॉब दिलाने में हेल्पफुल हो सकती है।

3. इंजीनियरिंग डिप्लोमा – कई सारे संस्थान और पॉलीटेक्निक कॉलेज दसवीं के बाद इंजीनियरिंग डिप्लोमा करवाते हैं। इनको करने के बाद आपको इंजीनियरिंग फील्ड से जुड़े मिडिल लेवल के जॉब आसानी से मिल सकते हैं। 

4. आईटीआई (इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग) – दसवीं के बाद आईटीआई भी अच्छा ऑप्शन है। इसमें बहुत से सब्जेक्ट  हैं जैसे इलेक्ट्रीशियन, वेल्डर, फिटर, कारपेंटर, मैकेनिक, स्टेनो, कम्प्यूटर आदि। इसमें बहुत बड़े जॉब तो नहीं मिलते हैं, लेकिन अगर आप खुद का कोई काम करना चाहे तो इस कोर्स को आसानी से करके अच्छी कमाई भी की जा सकती है।

5. स्टेनोग्राफी एवं टाइपिंग – आप दसवीं के बाद स्टेनोग्राफी एवं टाइपिंग में भी डिप्लोमा कर सकते हैं। कुछ प्रदेशों में 11th और 12th में भी स्टेनोग्राफी एक विषय के रूप में चुन सकते हैं। कोर्ट और अन्य कई सरकारी दफ्तरों में इस तरह की वैकेंसियां निकलती रहती हैं जिनके लिए स्टेनो अनिवार्य होता है। 

10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें, कैसे बेहतर करियर बनाएँ? 10th ke baad konsa course kare, 10th ke baad job, हाई स्कूल के बाद क्या करे, 10 वीं के बाद सर्वोत्तम कोर्स, 10 वीं के बाद मेडिकल कोर्स, 10th ke baad kya kare in hindi, 10th ke baad kya karna chahiye, 10th ke baad kya job kare, 10th ke baad 12th kaise kare, दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें ?

वोकेशनल कोर्सेज क्या हैं?

वोकेशनल कोर्सेज में करियर कॉलेज, वोकेशनल स्कूल्स, ट्रेड स्कूल्स और कम्युनिटी कॉलेज में पढ़ाया जाता है। वोकेशनल क्लासेज ज्यादातर जॉब फोकस्ड कोर्सेज प्रदान करती हैं, स्पेसिफिक रोल या करियर के लिए। वहीं ऐसे बहुत से मामले में वोकेशनल कोर्सेज में वो पोटेंशिअल होती हैं जो की बाद में आपको स्किल्स, सर्टिफिकेट्स या एसोसिएट डिग्रियां प्राप्त करने के काबिल बना सकती है।

वोकेशनल स्ट्रीम के कोर्सेज

10th ke baad kya kare जानने के साथ-साथ यह जानना भी ज़रूरी है कि वोकेशनल स्ट्रीम के कोर्सेज कौनसे होते हैं-

  • Interior Designing
  • Fire and Safety
  • Cyber Laws
  • Jewelry Designing
  • Fashion Designing

10वीं के बाद डिप्लोमा कोर्सेज

10th ke baad kya kare सवाल को और अच्छे से समझने के लिए नीचे स्ट्रीम के अनुसार डिप्लोमा कोर्सेज दिए गए हैं:

दसवीं आर्ट्स के बाद मिलने वाले डिप्लोमा कोर्सेज की लिस्ट निम्नलिखित है :-

  • Diploma in Fine Arts 
  • Diploma in Commercial Art
  • Diploma in Graphic Designing
  • Certificate Course in Spoken English 
  • Certificate Course in Functional English
  • Diploma in Social Media Management
  • Diploma in Hotel Management
  • Certificate in Hindi 

10वीं कॉमर्स के बाद डिप्लोमा कोर्सेज

दसवीं कॉमर्स के बाद मिलने वाले डिप्लोमा कोर्सेज की लिस्ट निम्नलिखित है :-

  • Certificate in Animation
  • Certificate Course in Tally
  • Diploma in Banking
  • Diploma in Risk and Insurance
  • Diploma in Computer Application
  • Advanced Diploma in Financial Accounting
  • Diploma in e-Accounting Taxation

10वीं साइंस के बाद डिप्लोमा कोर्सेज

दसवीं साइंस के बाद मिलने वाले डिप्लोमा कोर्सेज की लिस्ट निम्नलिखित है :-

  • Diploma in Information Technology
  • Craftsmanship Course in Food Production
  • Certificate in Diesel Mechanics 
  • Diploma in Dental Mechanics
  • Diploma in Dental Hygienist
  • Diploma in Electrical Engineering 
  • Diploma in Computer Science and Engineering

10वीं के बाद सर्टिफिकेट कोर्सेज

दसवीं के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट कोर्सेज की लिस्ट निम्नलिखित है :-

  • Certificate Programme in MS Office
  • Certificate Course in Programming Language
  • Certificate in Web Designing
  • Certificate in SEO 
  • Certificate in Graphic Designing
  • Certificate in Digital Marketing
  • Certificate in Mobile Phone Repairing
  • Certificate in Office Assistant Cum Computer Operator Course
  • Certificate in Wireman Course
  • Certificate in Motor Vehicle Mechanic Course
  • Certificate in Electrician Course

10वीं के बाद करियर के विकल्प

अगर आप दसवीं पास करने के बाद स्कूल नहीं जाना चाहते हैं, तो आप निम्नलिखित कोर्सेज में अप्लाई कर सकते हैं-

  • ITI- दसवीं के  के बाद आप जल्दी जॉब करना चाहते हैं तो आप ITI कर सकते हैं आईटीआई में आप कई विषय होते हैं जिसमें इलेक्ट्रीशियन, वेल्डर, फिटर,मोटर मैकेनिक,कंप्यूटर आदि प्रमुख हैं। यह 2 वर्ष का होता है
  • कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग- वर्तमान समय  कंप्यूटर का है। इसमें आपको कंप्यूटर रिपेयरिंग, हार्डवरिंग,नेटवर्किंग के बारे में सिखाया जाता है। अगर आप अच्छी नौकरी चाहते हैं तो आप इससे क्षेत्र में अप्लाई कर सकते हैं। 
  • इंजीनियरिंग डिप्लोमा-इसे पॉलिटेक्निक डिप्लोमा भी कहते हैं।यह 3 वर्ष का होता है।इसे करने के बाद आप सीधे जॉब लग सकते हैं। इसमेंं कंप्यूटर साइंस, केमिकल, मैकेनिकल, प्लास्टिक, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स आदि विषय आते है। 
  • नॉन इंजीनियरिंग डिप्लोमा अगर आपकी रुचि टेक्निकल मे नही है तो आप नॉन टेक्निकल डिप्लोमा कर सकते है यह भी 3 वर्ष का होता है। इसमे आपको फैशन डिजिगनिंग,कमर्शियल आर्ट, टेक्सटाइल्स आदि पढाये जाते हैं। यह लड़कियों के लिए एक बेहतर ऑप्शन हैं। 
  • होटल मैनेजमेंट- आप दसवीं के बाद सीधे होटल मैनेजमेंट डिप्लोमा कर सकते है जो आपके भविष्य  के लिए एक अच्छा निर्णय हो सकता है।
  • मीडिया- अगर आपकी रुचि पढ़ाई में नहीं है तो आप दसवीं के बाद सीधे मीडिया डिप्लोमा कोर्स ज्वाइन कर सकते हैं। 

10th ke Baad Kya Kare 10वी के बाद क्या करें, कैसे बेहतर करियर बनाएँ? 10th ke baad konsa course kare, 10th ke baad job, हाई स्कूल के बाद क्या करे, 10 वीं के बाद सर्वोत्तम कोर्स, 10 वीं के बाद मेडिकल कोर्स, 10th ke baad kya kare in hindi, 10th ke baad kya karna chahiye, 10th ke baad kya job kare, 10th ke baad 12th kaise kare, दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें ?

दसवीं के बाद मेडिकल कोर्स कैसे करें?

अगर आप 10वीं के बाद मेडिकल फील्ड में जाना चाहते हैं तो आपको दसवीं के बाद से ही इसकी तैयारी शुरू कर देनी चाहिये। मेडिकल में जाने के लिए आपको 11वीं में साइंस स्ट्रीम लेकर बायोलॉजी पढ़नी होती हैं।बायोलॉजी,मेडिकल का मुख्य विषय है। 12वीं पास करने के बाद आप मेडिकल के विभिन्न एंट्रेंस एग्जाम जैसे- NEET, MBBS, JIPMER आदि के लिए आवेदन कर सकते हैं। अगर आप आर्ट्स स्ट्रीम के स्टूडेंट है तो भी आप मेडिकल में प्रवेश ले सकते हैं उसके लिए आपको कुछ कोर्स करने होते हैं।

10वीं के बाद जॉब्स

10वीं पास करने के बाद कई ऐसे छात्र होते है जो नौकरी करना चाहते है और कोई नौकरी करना चाहते है। अगर आप भी उनमे से एक है जो 10वीं के बाद सीधा जॉब करना चाहते है तो यह भी मुमकिन है इससे आप अपना खर्च भी निकाल सकते हो और अपने परिवार की भी आर्थिक मदद कर सकते हो। आप चाहे तो 10वीं के बाद भारतीय सेनारेलवे, BSF जैसे सरकारी नौकरी कर सकते हो और अच्छा पैसा कमा सकते हो। सरकार द्वारा इन पदों की भर्ती के लिए हर साल एग्जाम होते है अखबार और इंटरनेट पर इसकी सूचना मिल जाएगी।

10वीं के बाद कॉमर्स के विकल्प

10वीं के बाद छात्रों को कॉमर्स में बहुत ज्यादा नहीं लेकिन बेहतरीन करियर विकल्प जरूर मिलते हैं। इस स्ट्रीम में आप अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकते हैं और किसी भी कंपनी के लिए मैनेजर का काम कर सकते हैं। इसके अलावा बैंकिंग सेक्टर जॉब भी इस स्ट्रीम के बाद आसानी से मिल सकती हैं। फाइनेंशियल एडवाइजर जैसी कई अन्य नौकरी भी आपको मिल सकती है, सरकारी नौकरी भी मिल सकती हैं।

साइंस स्ट्रीम में करियर विकल्प क्या हैं?

साइंस स्ट्रीम में करियर विकल्प नीचे दिए गए हैं-

मेडिकल साइंसइंजीनियरिंगदूसरे कोर्स
एनाटोमीएयरोस्पेस इंजीनियरिंगPharmaceuticals
बायोकेमिस्ट्रीकेमिकल इंजीनियरिंगSoftware Design
बायोइन्फरमेटिक्ससिविल इंजीनियरिंगForensic Science
बायोमैकेनिक्सकंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंगCeramics Industry
बायो स्टेटिस्टिक्सइलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंगPlastics Industry
बायोफिजिक्सइंजीनियरिंग मैनेजमेंटPaper Industry
साइटोलॉजीइंडस्ट्रियल इंजीनियरिंगTeaching
डेंटल साइंसइंटीग्रेटेड इंजीनियरिंगAgrochemistry
एम्ब्र्योलॉजीमैटेरियल्स इंजीनियरिंगAstronomy
एपिडेमियोलोजीमैकेनिकल इंजीनियरिंगFood Technology
जेनेटिक्समिलिट्री इंजीनियरिंगMeteorology
इम्म्युनोलॉजीन्यूक्लियर इंजीनियरिंगPhotonics
माइक्रोबायोलॉजी इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंगSeismology
पैथोलॉजीइलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन इंजीनियरिंगPaleontology
फोटोबायोलॉजीजियोटेक्निकल इंजीनियरिंगGeochemistry

आर्ट्स स्ट्रीम के करियर विकल्प क्या हैं?

10th ke baad kya kare जानने के बाद यह जानना ज़रूरी है कि 10वीं के बाद करियर विकल्प क्या हैं-

आर्कयोलॉजीलाइब्रेरी मैनेजमेंटपॉलिटिकल साइंसपॉप्युलेशन साइंस
एंथ्रोपोलॉजीसाइकोलॉजीसोशियोलॉजीसोशल वर्क
सिविल सर्विसेजटीचिंगहॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्रीइंटीरियर डिजाइनिंग
कार्टोग्राफीलिंग्विस्टिक्सफाइन आर्ट्स
इकोनॉमिस्टमास कम्युनिकेशन / मीडियापरफार्मिंग आर्ट्स
जियोग्राफरफिलोसॉफीफैशन डिजाइनिंग
हेरिटेज मैनेजमेंटरिसर्चट्रैवल और टूरिज्म इंडस्ट्री
हिस्टोरियनराइटिंगलॉ

10वीं के बाद कनाडा में पढ़ाई क्यों करें?

10th ke baad kya kare जानने के साथ-साथ यह जानना भी ज़रूरी है कि कनाडा में पढ़ाई क्यों करें, इसके कारण नीचे दिए गए हैं-

  • शिक्षा और रोजगार दर के मामले में कनाडा का एक लंबा इतिहास और प्रतिष्ठा है जब अमेरिका और ब्रिटेन के कुछ प्रमुख स्कूलों और विश्वविद्यालयों के खिलाफ खड़ा किया गया।
  • देश हर साल 1 लाख से अधिक अंतरराष्ट्रीय छात्रों के साथ विविध और महानगरीय वातावरण से घिरा हुआ है। टोरंटो में 7% से अधिक भारतीय अप्रवासियों के साथ, कोई भी आसानी से अपना सकता है और दोस्त बना सकता है।
  • कनाडा को सामाजिक प्रगति और विकास के साथ दुनिया का सबसे सुरक्षित देश माना जाता है। इसमें कम अपराध दर और जीवन की उच्च गुणवत्ता है।
  • कनाडा में विश्वविद्यालय नवाचार (इनोवेशन) और आगे की सोच को बढ़ाने के लिए अनुसंधान पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो HIV/AIDS की बीमारी की रोकथाम, कैंसर का पता लगाने, पर्यावरणीय स्थिरता और बहुत कुछ जैसे नए सिद्धांतों और खोजों की ओर ले जाता है।
  • शिक्षक और प्रोफेसर अविश्वसनीय रूप से खुले और मैत्रीपूर्ण हैं जो छात्रों को स्वतंत्र विचारों बनने की अनुमति देते हैं। शिक्षण दृष्टिकोण कार्यशालाओं, असाइनमेंट, परियोजनाओं और समूह कार्य के साथ संयुक्त पारंपरिक शिक्षण का गठन करता है।

10वीं के बाद कनाडा में कोर्सेज

10वीं के बाद कनाडा में पढ़ाई करने के लिए नीचे कोर्सेज की लिस्ट दी गई है-

  • Engineering and Technology
  • Business
  • Medicine
  • Environmental Science
  • Social Sciences
  • Arts

TI: आईटीआई का फुल फॉर्म Industrial Training Institute होता है और यह दो साल का कोर्स होता है जिसे पूरा करने के बाद आपकी सीधे जॉब लग जाती है. आईटीआई बहुत से वोकेशनल कोर्स भी ऑफर करती है जैसे की electrician, fitter, stenographer, programmer assistant, graphics & multimedia, personality development और भी बहुत से कोर्स आईटीआई द्वारा करवाए जाते है यह बहुत ही बढ़िया कोर्स है जिसे 10th के बाद किया जा सकता है.

Diploma: इस कोर्स की अवधि तीन साल होती है और इस अवधि में आप 50 प्रतिशत इंजिनियर बन जाते हो और यह बहुत ही आसन तरीका है जल्दी से इंजिनियर की डिग्री हासिल करने के लिए. डिप्लोमा को बहुत से लोग पॉलिटेक्निक नाम से भी जानते है. डिप्लोमा कोर्स ख़तम करने के बाद आप अपना एडमिशन सीधा बी.टेक सेकंड इयर में करवा सकते हो या फिर किसी कंपनी में नौकरी भी कर सकते हो. डिप्लोमा में बहुत से इंजीनियरिंग कोर्सेज कर सकते हो जैसे की civil engineering, computer engineering, electrical engineering, mechanical engineering ऐसे ही बहुत से कोर्सेज डिप्लोमा में करवाए जाते है.

FAQs –

प्रश्न 1: दसवीं के बाद कौन सा कोर्स करें?

उत्तर: दसवीं के बाद : जानिए 10वीं के बाद कौन-कौन से डिप्लोमा कोर्स कर सकते है
डिप्लोमा इन फाइन आर्ट्स
डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग
डिप्लोमा इन स्टेनोग्राफी
डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर
डिप्लोमा इन बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन

प्रश्न 2: दसवीं के बाद कौन सी सब्जेक्ट लेनी चाहिए?

उत्तर: ये विज्ञान में हाथ आजमाने की हसरत रखने वालों के लिए बेस्ट सब्जेक्ट है। बायोलॉजी ग्रुप में फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी, हिन्दी और अंग्रेजी सब्जेक्ट्स होते हैं। बायोलॉजी, डॉक्टर (एलोपैथी, होम्योपैथी या आयुर्वेद) और हेल्थ सर्विसेज में आपके लिए करियर के दरवाजे खोलती है।

प्रश्न 3: डिप्लोमा के लिए कितने परसेंटेज चाहिए?

उत्तर: फर्स्ट डिवीज़न. ➥दोस्तों जो स्टूडेंट डिप्लोमा इन फार्मेसी के अंतर्गत स्टडी करते हैं उन सभी स्टूडेंट का अगर फाइनल ईयर के रिजल्ट में 60% है अर्थात 3 साल के परसेंटेज को मिलाकर आपका जो परसेंटेज बनी वह आपका 60% होना चाहिए तो आपको फर्स्ट डिवीजन के अंतर्गत रखा जाएगा।

प्रश्न 4: क्या दसवीं के बाद आईटीआई कर सकते हैं?

उत्तर: दसवीं पास करने वाले छात्रों के बीच आईटीआई कोर्स काफी लोकप्रिय हैं। आईटीआई में कई ट्रेड होते हैं जिन्हे छात्र अपनी पसंद के मुताबिक चुन सकते हैं इसमें से कुछ लोकप्रिय कोर्स हम नीचे दे रहे हैं। दसवीं पास करने वाले छात्र इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कर सकते हैं इसके लिए छात्रों के पास दसवीं में गणित और विज्ञान विषय होना चाहिए।

प्रश्न 5: डिप्लोमा में कौन सा कोर्स होता है?

उत्तर: डिप्लोमा एक छोटी अवधि का कोर्स होता है जो किसी व्यक्ति को किसी विशेष क्षेत्र में प्रशिक्षित करता है और सर्टिफिकेट प्रदान करता है। आसान भाषा में कहा जाए तो डिप्लोमा वो कोर्स होता है जिसमें किसी व्यक्ति को किसी विषय या क्षेत्र में कम समय में पढ़ाया जाता है।

प्रश्न 6: दसवीं के बाद कौन सी पढ़ाई करनी चाहिए?

उत्तर: अगर आपने दसवीं पास कर ली है और अब आप अपनी आगे की पढ़ाई के लिए सही विकल्प तलाश रहे हैं तो हमारा ब्लॉक अंत तक पढ़े। दसवीं के बाद पढ़ाई करने के लिए कई सारे विकल्पों होते हैं जिनमें से कुछ से निम्न हैं- ITI, फैशन डिजाइनिंग, होटल मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग डिप्लोमा, नॉन इंजीनियरिंग डिप्लोमा आदि कोर्सेज मे आप 10वीं पास करने के बाद अप्लाई कर सकते हैं।

आपके लिए नवीनतम अपडेट

GET BEST JOB

Subscribe To Our Newsletter

GETBESTJOB के लेटेस्ट अपडेट और न्यूज़ पाने के लिए हमारी मेल सूची में जुड़े 😍

बधाई हो! आपने GETBESTJOB को SUBSCRIBE कर लिया हैं !

Subscribe To Our Newsletter

Subscribe To Our Newsletter

हमारे लेटेस्ट अपडेट पाने की लिस्ट से जरूर जुड़े !

You have Successfully Subscribed!

Pin It on Pinterest